मंगलवार, 29 अप्रैल 2014

Pandit aur bhooto ka chakkar

                                                   अमर शर्मा  9006357621 
ये कहानी  मेरे दादाजी बहुत बपन मे बताएं थे आज मै आप लोगो को बता रहा  हूँ।  मेरे गाव की चौक की ये कहानि हैँ।  कहा  जाता  हैं की उस समय  भूतो  का काफी नाम था।  सात  बजते  इस चौक से  लोगो का आन जान बन्द हो जाता था।  ऐसा मानना हैं की   यहा पर रोज़ाना भूतो कि गस्ती , हूँआ  करता  था जिस वजह से लोगो का आन जान  बन्द  हो जाता था। शादी   विवाह  का समय था।  एक  ब्राह्मण इसी  रास्ते से जा रहे थे  काफि दूर  चल्ने के बाद रास्ते मै एक खौफ नाक  भुत से पाला  पारा  , ओ भुत  जो था ओ भि  काफि  ज्ञानि  था  क्योकि  ओ  भि  ब्रह्माण ही  था।  ओ एक पेड़  पर बैठा पाठ  पढ़  रहा   था  अचानक उस ब्राह्मण पर नजर परा  ब्राह्मण  घबड़ा  गया   अब क्या होगा क्योकि  उसे शादी कराने के लिये जाना  था  औऱ  ओ  काफि लेंट  मे था भुत ने कहा इतनी  रात को  कहा  जारहे  हो उस पंडित ने कहा  मै शादी कराने जा रहा हूँ  मुझे आज जाने दिजिये  मै आप से बाद मै मिलूंगाः लेकिन  वह  नहि माना  क्योकि ओ भि काफि ज्ञानि  था  आज मै तुम्हे नहि छोड़ूँगा  तो पंडित ने  हनुमान चलिषा  का जाप करने लगा  तो भूतो ने  भि चालु  कर दि कहा  मैँ भि पंड़ित
हूँ  जबतक  मेरा  ज्ञान  का आमना सामने  नहि होगा  तब तक मै तुम्हारे साथ नहि छोड़ूंगा  ब्राहम्ण काफि  ड़र  सा  गये  थे चूकी शादि भि तो कारबाना  था वहा सभि  लोग इंतज़ार कर रहे थे  कब पंडित जि आएंगे।  शादी कैसे होगा  काफी देर तक दोनो के  बिच मै मंत्रो  का बर्तालाप  चला  भुत का कहना  था कि अगर तुम मुझसे जीत जाओ गे  मंत्रो मै तो हम तुम्हे छोर देंगे जब पंडित ने गायत्रीं मन्त्र का आवाहरण  किया  तो उससे आगे  आगे भुत  पढने लगा  काफि देर तक चाला  लास्ट मै कहा  पंड़ित  मै हार  गया  लेकिन ओ  भूत काफी  दयालू था ओ देख  रहा  था  कि ये ब्राह्मण पंडित  लायक  हैं या नहि।  ओ भूत कहा नाम से पंडित नहि होना चाहिए ज्ञान भि होना जरुरी हैं  फ़िर ओ ब्रह्माण माफ़ी माँगा  अब मुझे जाने दीजिये  तो भुत  ने कहा जब तक तुम वहा जाओगे  तब तक तो सुबह हो जायगा।  तुम शादी कैसे कराओ  गे  फ़िर ओ सोच  मै पर गयें  एक उपाय हैं। तुम मेरे हाथ पकरो और हावा मै उड़ा  के ले गये। जा के जहा शादी हो रहा था वहा गिरा दिया।  सभी  लोग चौक  गए पंडित  जि ह्वा मैन से गिरे हैँ ,पंड़ित कह ये सब छोड़ों लडक़ा और लड़की को लाओ और दोनो का शादि शांतीपूर्ण   हो गयां । इस  लिए  कहते हैं इंसान को अपने आप पे घमंड  नहि करना चहिये। 

सोमवार, 24 मार्च 2014

Do Aatmao ki Anokhi milan

                                                      अमर शर्मा     9006357621             
ये  कहानी  कहानी नहीं हैं ये एक सच्ची घटना हैं पटोरी  कि एक गॉव  की  हैं एक लड़का एक लड़की से बहुत प्यार करता था दोनों कि आपसी तालुकात देख के गाव वाले काफी  दुखी थे ये बात सुनकर काफी लोगो जानने लगे थे,  एक दिन लड़की वाले के माँ  पिता  को  इस बात की खबर हुयी  तो गाव के लोगो ने दोनों के शादी   से इनकार  कर दिया  ये बात सुनकर लड़की और लड़का मानो  दिवार की क़यामत  सी  आ  गयी  लड़को वालो को काफी बेजती  और बादनामी   हुवा  एक दिन लड़की का रिश्ता आया किसी दूसरे गाव से ये बात जब लड़को  को पता चला लड़का ने   खुद ख़ुशी कर लिया  सोचा  अब मैं जी के क्या करूँगा  ये देखते  हुए लड़की  किसी दूसरे जगह शादी  से इंकार कर  दिया एक दिन लड़की के  पापा ने लड़की कि शादी बिना पूछे तय कर दी  लड़की के काफी माना करने के वाबजूद उसकी एक भी न चला फिर लड़का   ने   जो अंजाम अपनाया  वही अंजाम लड़की ने अपना लिया  और लड़की ने भी खुद ख़ुशी कर ली ये  बात  सुन कर पुरे गाव मैं सन सनी सी फ़ैल गयी।  इक दिन लड़की नै अपने माँ को मरने के बाद सपने मैं कहा कि मुझे वही लड़का से शादी करनी हैं जिस से मैं प्यार करती हूँ।  ये  बात सुनकर काफी सन सनी फ़ैल गयी फिर लड़को के पिता को लड़का ने सापनो मैं आकर कहा माँ मैं तो मर गया हूँ पर पर मेरी  एक इच्छा हैं  मैं उसी लड़की से शादी  करना  हैं। इस  बात का खाव समझ कर भूल गया फिर  फिर लड़का सामने आकर डायरेक्ट अपना रूप दिखाया तब यकीन हुवा  तब जाकर  दोनों परिवार को अपने किये गलती का यह सास हुआ।  फिर दोनों को शादी कराने का निश्चय  किया फिर दोनों का शादी का दिन परा फिर लड़को वालो कि तरफ से बरात गया निश्चय  दिन तय किया हुवा   बरात काफी अच्छे ढंग से सजाया गया था। सभी लोग चिंचित मैं थे कि अगर लड़का और लड़की अगर नहीं आये  तो फिर क्या होगा।  लेकिन लड़को ने अपने पिता से वादा  किया  था कि  मैं जरुर  आउंगा ये मेरा वादा  हैं ठीक  वाद लड़की ने भी कि अपने माँ से  ये दोनों ने मर के भी अमर कि कथा  सुना  दिया।  लड़की वाले के घर पे  पहुचते जोर से आंधी  आयी जैसे लगता था लोगो को उडा  ले जाएगा। सभी लोग डर के भागने लगे इधर उधर  अचानक हवा का झोका  सांत हो गया फिर लड़का और लड़का और लड़की आयी ऐसा  लग रहा था जैसे रियल मैं शादी हो रहि हैं।  फिर जयमाला  हुवा बहुत से लोगो का तो डर के शारीर पानी पानी हो  रहा था। लेकिन लड़को ने कहा मैं किसी को कुछ नहीं करूँगा मैं आप लोग मुझे  समझे लेकिन मैं आप लोगो और माता पिता को पहचनता हूँ  किसी को कुछ नहीं होगा ये  दो आत्माओ  का  बादा  हैं फिर लोगो के दिल से डर  का खाफ  हटा।  और दोनों का शादी हुआ  और दोनों फिर विलीन  हो गया  सभी लोग आशिर्वाद  दिये।  इस तरह से दो आत्माओ का  शादी हुवा इस लिए कहते हैं सच्चा प्यार मर के भी अमर होता हैं। 

शनिवार, 2 नवंबर 2013

jangle ki jaadu ki chhari

Amar sharma 9006357621 Email( id )Play.amar.sharma@gmail.com
Ek  Gaaw Main Bahut Garib Aadmi Raha kata tha o  Itna Garib Thaa ki Aaj  Bhojan karta to Kal ko Sochta tha ki kal kayse khayenge . uski patni kaafi gusse baali thi wo hamesa Apne pati ko daat -Te rehta Tha. Ek baar uski patni ne apne pati se kaha aji sunte ho Ab yaha rehne se kaam nahi chlega kuchh kaam sahar main jaakar karo jis se kuchh roji roti bhi ho jayegi aur aap ka man bhi lag jaeya.  Kisi tarah o patni daat dabaar ke pati se kaha  Aur sirf do roti  baana ke apne pati ke thaila me rakh diya aur kaha ki Isi main kaam chala lena aur fir roti kha ke bahana bana ke mat aana . Agar aao ge to jhaaru se marungi ................ ye sunkar uski pati ko kaafi  gussa Aaya par bechara karta bhi kya uske paass majburi thi use koyi bhi kaam karne ka dhang nahi tha isi liye use koyi bhi rakhta to kuchh hi dino me hata deta tha Hataata bhi kyo nahi o Murkh tha  o kaafi socha fir nichay liya ki ab ghar laut ke khali haath nahi jaana hain chahe mere praan kyo n nikal jaaye. Raste main  kaafi door chalne ke baad o thak gya tha aur bhuk bhi lag gya tha socha thora jalpaan kar lete hain fir doori tay karenge chalte- chalte kaafi raat ho chuka thaa  Aur raste main kaafi bare - Bare jangal tha usi ke Bicho -Bich ek Chhoti si rasta tha o Rasta itna bhyanak tha ki saam hote hi Band ho jaya karta thaa.  lekin use pata nahi tha ki Itna Bhayaanak Ye Rasta hain kyo ki o Kaafi darpok tha Saam hote hi Ghar ke Char diwaari ke Ander band ho jaata tha itna darpok tha ki Uska Baap bhi kahe nahi mar Jaata fir bhi o Bahar nahi niklta lekin Patni ki Gaari, Roj- Roj ka Bejti , Khich -Khich ki bajah se  dar lag raha tha fir bhi jaa ra tha  Kaafi bhukh Lagne ki Bajah se Ek birchh (per) ke niche Baitha us Birchh pe Kaafi dino se Do Bhut  Aur Bhutni Raha karti thi o Kaafi sakti shaali thi. Aur saare jangal ki churel aur bhuto ki Raja Rani thi Bhut aur Bhutni Usi per ki daali pe baithi thi .......... Usi per ke niche uski patni ne Jo do roti bana ke di thi  o burbak ne sochha ki do roti main se pehle kon roti khau (ye soch ke o Bhari daund me fas gya  o sirf itna keh raha tha ki isko khau ki usko khaau ye sochh ke dono bhut aur Bhutni dar gya aur Dono Bhut  Aur bhutni socha ki Aaj tak koyi Bhi manushy hame nahi dekha aur ye kayse dekh liya  aur hamse nahi darta hain lagta ham dono ko Ye manushy Aaj kha jayega....... Bhoot aur Bhutni kaafi dar gyi Aur dar -dar ke kaafi Himmat ke Baad us manav se bola please mujhe mat khao  mujhe mat maaro Tumhe jo chahiye o main tumhe deta hoon par ham dono ko choor do. Ye sunkar o Burbak  ki Akkil khul gyi Aur sochha Aaj ye mera roti ki wajah se ye dono dar rahe hain........  usne aur kas ke kehne laga   me khaunga........ main khaunga......us ..insaan ka hosla badh gya ..... fir dono per pe se utre aur bole main ek chij deta hoon jisse  tumhe koyi bhi chij ya bastu ki kami jiwan bhar nahi hogi par mujhe chhor do. fir kahaunga   tab o Jaadu ki ek Chhari di Aur o Bhootni boli is chhari se Sachche dil se jo maango ge o mil jayega....... fir o chhari lekar ghar laut Aaya. fir uki Patni darbaaje pe khara thi ki Aaj mera pati Kahi kha ke  Khali haath ghum ke Aayega to Jharu se marungi jab o bechara aaya to patni ne jharu se swagat ki uka Pati bola mat maaro hame usne kaha hum o chij laaye hain jisko Aaj tak kisi ko nasib nahi huwa  hain to patni boli kya to boli jaadu ki chhari laya hoon.......... jaldi se ghar main jaane do aur ghar ko Achhe se nipo Aur is chhari ko pujo  aur bolo ye chhari Agar tum us bhoot ki di huyi sach ka chhari hain to hame Hame khane bhar bhojan barsa ke batao........ bhojan barasne laga ...... patni khush ho gyi....... Aur saare gaaw vaasiyo ko invite kar diye ki mere yaha khane ko sabhi log aana  sabhi logo ne kaha ise apne khaa ne ke liye kuchh nahi hain hum logo ko kayse khilayega ......... fir sochha chalo jaa ke dekhte hain agar jhut bolta hoga to uski pittai karenge ye sochh ke kuchh log gya waha dekha to bhojan ka koyi kaam nahi ho raha hain waha se log jaane lage tabhi uski patni andar gyi aur boli ye jaadu ki chhari agar sach main us bhootni ki di huyi chhari hain to hamare yaha jitne log hain sabhi ke liye bhojan barsao fir barsne laga.......... fir o ghar se bhojan nikalne laga aur sabh ko khilaya Sabhi Chakit reh gye ki itna management ye keyse kar liya o bhi ghar me reh kar usi main ek dimmag ka tej bekti thaa usne use sab karte huye dekh liya aur chhari chura li   aur o puchha to chhari ka name nahi liya fir madhos hokar usi jangal ke pass gya.  Aur fir wahi ada apnaya fir Bhootni ne kaha Ab kya huwa maine aap ko chhari di thi o bola chhari  chori hogya main kya karo ab dono ko khaunga bola ruko main Ab mera pass ek Rassi bachi Huyi hain ye lelo aur meara jaan bakas do plese to kaha main is rassi ko kya karungaaaaa to bhoot ne us se kaha ki Tum is rassi se kuchh bhi Bandh ke laa sakte ho kahi se bhi.  Kaha achha thik hain fir o bola Agar sach main us Bhoot Aur Bhootni ki di huyi chhari hain to Jisne meri Chhari churaayi hain use Badhte  aur pithe le Aao thikha yesaa hi huwa us rassi ne use baandh ke aur (mugri)  thokhne waalo se use pittai karte  huye hamare pass laao rassi bandh ke laya aur mungari means pitne waala ya thokne waala se marte huye us chor ko us burbat  Mannu ke pass lyaa .. fir uska Chari Bhi Mil gya Aur Rassi  bhi mil gyaaaa Fir o burbak ek Ameer Aadmi ban gya Thanks............

बुधवार, 18 सितंबर 2013